So said the Sea

I see the vastness of these oceans and I look at my bare foot legs, wet with the oceans longing for me. Not that I waded into these waters deliberately, not that I heard it's call and responded as in a dream. These waters came searching for me.

As the showers spray salt shatter break breach surf and roll, I feel like the sea, rushing to lose myself among the vastness that now surrounds me.

It is time to lose a bit of me. It is time to change a bit of you. Of what use my dear are these two separate identities?

लहरों का किनारों से

जो रिश्ता समंदर का पानी से
लहरों का किनारों से है
कुछ ऐसा ही रिश्ता मेरी हमनफ़ज़
आपके दिल का हमारे दिल से है।

कभी इतनी पास की रूहानी हो जाये
कभी दूर इतनी कि रूह तड़प सा जाये।
कभी तुम्हारे आघोष में वक़्त यूँ ही निकल जाये
तो कभी बिछडन कि आग हमें निगल जाये।

सुनो, जब कभी समुन्दर की लहरें
बूंदे बन तुम्हारे बदन को सेहराये
उन्हें झटकना मत, कुछ देर और भिगोने देना
क्या खबर मेरी हमनशीं तुम्हारे कदम
लौट मेरी और फिर कब आये।

जो रिश्ता वक़्त का पल से

धर्ति से ना पूछो
कि है बारिश से ये कैसा प्रेम
वक़्त से ना पूछो
क्षण का प्रेम

तुम इस कदर हो घुली मुझमें
जैसे कि तुम वक़्त और में क्षण तुममे
तुम भूमी
में जल सा समाया तुममे
तुम मंज़िल
मैं पथ सा तुममे
तुम वाणी
मैं भाषा तुममे

में वो कहानी
तुम परियों की रानी जिसमें।

Roller Coaster Ride

I have felt your heart fluttering as my fingers made weird random design on your palm. No, you don't have to tell me what I do to you.

It's just a small bit of all that you do to me as well.

An Urchin's Prayer for You

As you walk into this day,
I want you to meet it all the way.
I want you to make love to the sunshine
I want you to dance in the rain.
I want you to fight with the traffic cop
And abuse the zombie on the other lane.

Kill a boss or two
Bring smile to a lonely hearts face.

Drench yourself in Victoria's secrets
Drape yourself in a lace

As you walk out to meet life today
I want you to face it with little grace.

तुम्हारा जो रंग है

एक दर्द ऐसा भी दे जाओ
जो सिगरी कि तरह सुलगते रहे
थीमि थीमि सिसकियों से
रातों को जगाती रहे

एक ऐसी सुबह दे जाओ
जिसकी कोई रात ना हो
और जो ख्वाइश अंधेरों कि हो
तुम्हारे ज़ुल्फ़ों का साया साथ हो।

एक ख़्वाब ऐसा दे दो
जिससे हम कभी जागे नहीं
और जो गर आँखें खुले
बगल में तुमको पाऊं

एक रंग ऐसा चढ़ादो
जो बदन से उतरे
तो लहु पे चढ़ जाये
ज़िगर से सिमटे
और ज़िन्दगी बन जाये।

The Dark of the Night

You would not have walked with me Had the nights been not so scary And your nightmares All so real for you. I would not have held your hands...